लोकोक्तियाँ क्या होती हैं ? कुछ लोकोक्तियों के उदाहरण | What are locoktiyan? some examples of locoktiyan

लोकोक्तियाँ  क्या होती हैं ? कुछ लोकोक्तियों के उदाहरण  | What are locoktiyan? some examples of locoktiyan

लोकोक्तियाँ
लोकोक्ति शब्द दो शब्दो से मिलकर बना हैलोक + उक्ति
अर्थात् ऐसी उक्ति जो किसी क्षेत्र विशेष में किसी विशेष अर्थ की ओर संकेत करती है, लोकोक्ति कहलाती है।
इसे कहावत, सुक्ति आदि नामों से जाना जाता है। लोकोक्ति लोक, अनुभवों पर आधारित ज्ञान होता है।
1. अन्धो में काना राजा - मूर्खों के मध्य अल्पग्य ही ज्ञानी
प्रयोग - रामू ही इस गाँव में दर्जा आठ पास है. गाँव के लोग उससे ही समसामयिक बाते पूछते है. ऐसा क्यों न हो, अन्धों में काना राजा।
2. चौर की दाढ़ी में तिनका - अपराधी स्वयं शंकित रहता है
प्रयोगमैंने तुम पर तो दोष लगाया नहीं तुम क्यों सफाई देने लगे. मालूम होता है कि तुम्ही ने उसे मारा है. चोर की दाढ़ी में तिनका।
3. गरीबी में आटा गीला - विपत्ति पर विपत्ति आना
प्रयोग - दो माह से वेतन नहीं मिला. आज साइकल चोरी चली गई. गरीबी में आटा गीला।
4. कहाँ राजा भोज कहाँ गंगू तेली - दो व्यक्तियों की स्थिति में बहुत अंतर होना
प्रयोग - श्यामजी  जाने माने लेखक है, मोहन जैसे कल के छोकरे से उनका क्या मुकाबला. कहाँ राजा भोज कहा गंगू तेली।
5. दीवारों के भी कान होते है - गुप्त बात छिपी नहीं रहती
प्रयोग - मैं यह बात यहाँ नहीं कहूँगा. एकांत में चलों. जानते नहीं दीवारों के भी कान होते है।
6. निर्बल के बल राम - जिसका कोई सहारा नही, उसकी ईश्वर सहायता करता है
प्रयोग- सभी के पास कोई न कोई सिफारिश थी लेकिन चुनाव हुआ तो विजय का, जिस बेचारे के पास कोई सिफारिश न थी. ठीक ही है निर्बल के बल राम।
7. एक और एक ग्यारह होते है - मेल से शक्ति में वृद्धि होती है
प्रयोग- प्रत्येक मनुष्य को देश के हित में स्वयं लगना चाहिए, क्योकि एक और एक ग्यारह होते है।
8. डूबते तो तिनके का सहारा - विपत्ति काल में थोड़ी सी मदद बहुत होती है
प्रयोग - भाई तुम्हारे इस थोड़े से धन ने मुझ डूबते तो तिनके का सहारा दिया है।
9. बन्दर क्या जाने अदरक का स्वाद - वस्तु विशेष का महत्व मुर्ख नही समझता
प्रयोग - तेल साबुन बेचने वाला दुकानदार संगीत के महत्व को क्या समझे? बन्दर क्या जाने अदरक का स्वाद।
10. सौ सुनार की एक लुहार की - बलवान की चोट कमजोर की सैकड़ों चोटों के बराबर होती है
प्रयोग - मोहन ने राकेश से अत्यंत दुखी मन से कहा. तुम मुझे अधिक परेशान मत करों. याद रखो सौ सुनार की एक लुहार की होती है।

Post a Comment

0 Comments