विलोम शब्द किसे कहते हैं? विलोम शब्दो के उदाहरण | Vilom shabd kise kahate hain? vilom shabd ke udaharan

विलोम शब्द क्या है? विलोम शब्दो के उदाहरण | Vilom shabd kya hai? vilom shabd ke udaharan

विलोम शब्द  

किसी शब्द का विपरीत या उल्टा अर्थ देने वाले शब्द को विलोम शब्द कहते हैं। अत: विलोम का अर्थ है  =>   उल्टा या विरोधी अर्थ देने वाला।
उदाहरण: =>  

अग्र =>   पश्च
अज्ञ =>   विज्ञ
अमृत =>   विष
अथ =>   इति
अघोष =>   सघोष
अधम =>   उत्तम
अपकार =>   उपकार
अपेक्षा =>   उपेक्षा
अस्त =>   उदय
अनुरक्त =>   विरक्त
अनुराग =>   विराग
अन्तरंग =>   बहिरंग
अवतल =>   उत्तल
अवर =>   प्रवर
अमर =>   मर्त्य
अर्पण =>   ग्रहण
अवनि =>   अम्बर
अपमान =>   सम्मान
अतिवृष्टि =>   अनावृष्टि
अनुकूल =>   प्रतिकूल
अन्तर्द्वन्द्व =>   बहिर्द्वन्द्व
अग्रज =>   अनुज
अकाल =>   सुकाल
अर्थ =>   अनर्थ
अँधेरा =>   उजाला
अपेक्षित =>   अनपेक्षित
आदि =>   अन्त
आस्तिक =>   नास्तिक
आरम्भ =>   समापन
आहूत =>   अनाहूत
आयात =>   निर्यात
आभ्यन्तर =>   बाह्य
आवृत =>   अनावृत
आशा =>   निराशा
आरोहण =>   अवरोहण
आस्था =>   अनास्था
आर्द्र =>   शुष्क
आकाश =>   पाताल
आवाहन =>   विसर्जन
आविर्भाव =>   तिरोभाव
आरोह =>   अवरोह
आदान =>   प्रदान
आगामी =>   विगत
आदर =>   अनादर
आकर्षण =>   विकर्षण
आर्य =>   अनार्य
आश्रित =>   अनाश्रित
इष्ट =>   अनिष्ट
इहलोक =>   परलोक
उग्र =>   सौम्य
उदात्त =>   अनुदात्त
उत्कृष्ट =>   निकृष्ट
उपसर्ग =>   परसर्ग
उन्मुख =>   विमुख
उन्नत =>   अवनत
उद्दत =>   विनीत
उपमान =>   उपमेय
उपत्यका =>   अधित्यका
उत्तरायण =>   दक्षिणायन
उन्मूलन =>   रोपण
उष्ण =>   शीत
उदयाचल =>   अस्ताचल
उपयुक्त =>   अनुपयुक्त
उच्च =>   निम्न
एड़ी =>   चोटी
ऐहिक =>   पारलौकिक
औचित्य =>   अनौचित्य
एक =>   अनेक
एकत्र =>   विकीर्ण
एकता =>   अनेकता
एकाग्र =>   चंचल
ऐतिहासिक =>   अनैतिहासिक
औपचारिक =>   अनौपचारिक
ऋजु =>   वक्र
ऋत =>   अनृत
कटु =>   सरल
कनिष्ट =>   जयेष्ट
कृष्ण =>   शुक्ल
कुटिल =>   सरल
कृत्रिम =>   अकृत्रिम
करुण =>   निष्ठुर
कायर =>   वीर
कुलीन =>   अकुलीन
क्रय =>   विक्रय
कल्पित =>   यथार्थ
कृतज्ञ =>   कृतघ्न
कोप =>   कृपा
क्रोध =>   क्षमा
कृश =>   स्थूल
क्रिया =>   प्रतिक्रिया
खण्डन =>   मण्डन
खरा =>   खोटा
खाद्य =>   अखाद्य
गुप्त =>   प्रकट
गरल =>   सुधा
गम्भीर =>   वाचाल
गुरु =>   लघु
गौरव =>   लाघव
गोचर =>   अगोचर
गुण =>   दोष
ग्राम्य =>   नागर
घृणा =>   प्रेम
चिरंतन =>   नश्वर
चल =>   अचल
चंचल =>   अचंचल
चिर =>   अचिर
जीवन =>   मरण
जाग्रत =>   सुप्त
जंगम =>   स्थावर
जागरण =>   सुषुप्ति
ज्योति =>   तम
तरुण =>   वृद्ध
तृप्त =>   अतृप्त
तृष्णा =>   तृप्ति
तीक्ष्ण =>   कुंठित
दण्ड =>   पुरस्कार
दानी =>   कृपण
दुरात्मा =>   महात्मा
देव =>   दानव
दिन =>   रात
धृष्ट =>   विनीत
निरर्थक =>   सार्थक
निर्दय =>   सदय
निषिद्ध =>   विहित
नैसर्गिक =>   कृत्रिम
निष्काम =>   सकाम
परतन्त्र =>   स्वतन्त्र
प्राचीन =>   नवीन
प्राची =>   प्रतीची
प्रभु =>   भृत्य
प्रसाद =>   अवसाद
पूर्ववर्ती =>   परवर्ती
पाश्चात्य =>   पौवार्त्यबंजर =>   उर्वर
भला =>   बुरा
भूत =>   भविष्य
मुख्य =>   गौण
मनुज =>   दनुज
मूक =>   वाचाल
मन्द =>   तीव्र
मौखिक =>   लिखित
योगी =>   भोगी
युद्ध =>   शान्ति
योग्य =>   अयोग्य
राजा =>   रंक
रक्षक =>   भक्षक
रुग्ण =>   स्वस्थ
रुदन =>   हास्य
रिक्त =>   पूर्ण
लौकिक =>   अलौकिक
लम्बा =>   चौड़ा
व्यास =>   समास
विख्यात =>   कुख्यात
विधि =>   निषेध
विपन्न =>   सम्पन्न
विपदा =>   सम्पदा
वृष्टि =>   अनावृष्टि
शासक =>   शासित
शिष्ट =>   अशिष्ट
शिख =>   नख
श्याम =>   श्वेत
शोक =>   हर्ष
शोषक =>   पोषक
सत्कार =>   तिरस्कार
संक्षेप =>   विस्तार
सूक्ष्म =>   स्थूल
संगठन =>   विघटन
संयोग =>   वियोग
सुमति =>   कुमति
सत्कर्म =>   दुष्कर्म
सामिष =>   निरामिष
स्मरण =>   विस्मरण
संसदीय =>   असंसदीय
सृजन =>   संहार
क्षय =>   अक्षय
क्षुद्र =>   विराट
ज्ञेय =>   अज्ञेय
स्वीकृति =>   अस्वीकृति
भौतिक =>   आध्यात्मिक

Post a Comment

0 Comments